Home उत्तर प्रदेश

तीन राज्यों के चुनावों में बसपा ने किया बेहतर प्रदर्शन, 2019 चुनाव से पहले अखिलेश की मुश्किलें बढ़ी

SHARE
BSP Strong than SP

Idein News: पांच राज्यों के चुनाव नतीजे आने के बाद उत्तर प्रदेश की राजनीति भी हिलोरे मारने लगी है। मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान में बहुजन समाज पार्टी के अच्छे प्रदर्शन के बाद यूपी की पूर्व सीएम व बसपा सुप्रीमो मायावती एक बार फिर एक्टिव मोड में आ गई हैं।

2014 के आम चुनाव में शून्य सीट मिलने के बाद पार्टी में आए भूचाल के बाद उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में भी अच्छा प्रदर्शन न कर पाने के कारण बसपा पूरी तरह से टूट चुकी थी। उत्तर प्रदेश के उप चुनावों में सपा संग गठबंधन करने के बाद से बसपा को एक नई जान मिली थी।

तो वहीं अब बसपा उत्तर प्रदेश के बाहर भी अच्छा प्रदर्शन कर रही है। जिसके चलते अब कयास लगाए जा रहे हैं कि 2019 आम चुनाव को लेकर बसपा उत्तर प्रदेश में गठबंधन के दौरान अखिलेश यादव से पहले की मुकाबले और ज्यादा सीट मांग सकती हैं।

इसे भी पढ़े: राजस्थान: कौन बनेगा मुख्यमंत्री ! सचिन या गहलोत के नाम पर आज राहुल गांधी लगाएंगे अंतिम मोहर

जिस तरह से बसपा ने मध्य प्रदेश में 5 फीसदी वोट शेयर करने के साथ 2 सीटे जीती हैं। छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव में भी बसपा ने 3.9 फीसदी वोटों के साथ 2 सीटे जीती हैं। तो वहीं बसपा ने राजस्थान में सबसे अच्छा प्रदर्शन किया है। राजस्थान में बसपा ने 4 फीसदी वोट शेयर करने के साथ ही 6 विधानसभा सीटे जीती हैं।

इसे भी पढ़े: मध्य प्रदेश: युवा नेता नहीं, बल्कि तजुर्बे वाला नेता होगा कांग्रेस से अगला मुख्यमंत्री

बसपा का यह प्रदर्शन अन्य क्षेत्रीय पार्टियों की तुलना में बहुत अच्छा है। बसपा के साथ ही उत्तर प्रदेश की समाजवादी पार्टी ने विधानसभा चुनाव लड़ा था, पर सपा का प्रदर्शन इतना अच्छा नहीं था जितना कि हिंदी भाषी राज्यों में बसपा का रहा है। इसलिए राजनीतिक गलियारों में एक बार फिर कयास लगाए जा रहें हैं कि 2019 आम चुनाव के पहले गठबंधन के दौरान बसपा और सपा के बीच सीट शेयरिंग पर काफी उठापटक देखने को मिल सकती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here