Home मध्यप्रदेश

मध्यप्रदेश: कर्जमाफी के दबाव में कमलाथ, वादाखिलाफी हुई तो आंदोलन करेगी भाजपा

SHARE
मध्यप्रदेश में कांग्रेस पर कर्जमाफी का दबाव
मध्यप्रदेश में कर्जमाफी के दबाव में कांग्रेस। फाइल फोटो

IDEIN NEWS: मध्यप्रदेश में सरकार बनाने की स्थिति के बावजूद कांग्रेस शीर्ष नेतृत्व को मुख्यमंत्री चयन में काफी माथापच्ची करनी पड़ी। मुख्यमंत्री को लेकर मध्यप्रदेश कांग्रेस साफतौर पर दो गुटों में बंटती नजर आई। आखिरकार कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और यूपीए अध्यक्षा सोनिया गांधी के हस्तेक्षप के बाद कमलनाथ के नाम पर मुहर लग ही गई।

यह भी पढ़ें: मध्य प्रदेश: हार के बाद शिवराज बोले- 10 दिन में कर्ज माफ करे कांग्रेस, अब चौकीदारी की जिम्मेदारी मेरी

मध्यप्रदेश में कमलनाथ की राह आसान नहीं है। मुख्यमंत्री की शपथ लेने के साथ ही सरकार गठन के 10 दिनों के भीतर उनके ऊपर किसानों की कर्जमाफी के वायदा पूरा करने का पूरा दबाव है। पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान घोषणा कर चुके हैं कि अगर कांग्रेस सरकार ने 10 दिनों के भीतर किसानों का कर्ज माफ नहीं किया तो पूरे प्रदेश में आंदोलन किया जायेगा।

यह भी पढ़ें: मध्य प्रदेश: युवा नेता नहीं, बल्कि तजुर्बे वाला नेता होगा कांग्रेस से अगला मुख्यमंत्री

प्रदेश में कांग्रेस सरकार बनने पर किसानों की कर्जमाफी की उनकी घोषणा ने अपना अहम रोल अदा किया है। कांग्रेस की सरकार बनने के साथ ही किसान 10 दिनों का इंतजार कर रहे हैं।

इसके साथ छत्तीसगढ़ में सीमए चयन में देरी से किसानों के अंदर नाराजगी और उदासी दिख रही है। यहां भी सरकार पर अपनी इस घोषणा को तुरंत पूरा करने का सरकार पर बेहद दबाव होगा। उधर, मध्य प्रदेश में भी कर्जमाफी कांग्रेस के लिए बड़ी चुनौती बनी हुई है, भाजपा ने तो वादा पूरा नहीं करने पर कांग्रेस के खिलाफ मोर्चा खोलने की भी धमकी दे डाली है।

खबरों की मानें तो कांग्रेस की सरकार बनने से पहले ही किसानों की कर्जमाफी की तैयारी चल तो रही है, लेकिन तीन दिन बाद भी शासन के पास कर्ज के आंकड़े नहीं हैं। राज्य शासन ने बैंकों को निर्देश दिया है कि 17 दिसंबर तक हर हाल में आंकड़े उपलब्ध करा दिए जाएं।

बता दें कि मध्य प्रदेश से ऐसी खबरें आ रही हैं कि शिवराज सिंह चौहान ने भी कांग्रेस को धमकी दी है कि अगर कांग्रेस ने वचन नहीं निभाया तो प्रखर आंदोलन होगा। उन्होंने कमलनाथ को बधाई देते हुए कहा कि वे प्रदेश का विकास करें, हम पूरा सहयोग करेंगे। उन्होंने कहा कि हम अब चौकीदार की भूमिका में हैं।

उन्होंने कहा कि कमलनाथ के शपथ लेने के बाद वे उनसे मिलेंगे और धान खरीदी में किसानों को हो रही परेशानी दूर करने व भाजपा सरकार की जनहितैषी योजनाएं जारी रखने का आग्रह भी करेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here